Founder’s Words

संस्थापक के शब्द

राष्ट्रीय गौ सेवक संघ में आपका स्वागत है। हम गौसेवकों और गौरक्षकों को जोड़ने के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं जो नि:स्वार्थ सेवा भाव से गौमाता की सेवा और सुरक्षा में शामिल होंगे। हम अपनी गौ-संस्कृति की धरोहर से जुड़े हुए हैं और देश में गौ-क्रांति की लहर लाने के लिए गौसेवकों और युवा डेयरी उद्यमियों की अगली पीढ़ी तैयार करने के लिए प्रयासरत हैं। हम भारत में डेयरी फार्मिंग को बढ़ावा देने के लिए नीतियां और रणनीतियां बना रहे हैं। इसके अलावा, हमने बूचड़खानों और भारत-बांग्लादेश सीमा से गायों को बचाने के लिए पहले ही गौरक्षकों के साथ जुड़ना शुरू कर दिया है। हमें अपनी गायों की देखभाल के लिए अपना समय, जुनून, विशेषज्ञता और जीवन समर्पित करने वाले स्वयंसेवकों की आवश्यकता है। गाय दाता है; वह एक मां की तरह, बदले में किसी चीज़ की उम्मीद किए बिना दुग्ध उत्पाद देती है और सेवा करती है। हमारा मानना है कि कोई अन्य जानवर गाय जितना देखभाल करने वाला, देने वाला और परोपकारी नहीं हो सकता। हम इस तथ्य का सम्मान करते हैं और गौसेवा करने में कोई कसर नहीं छोड़ते। इसके अलावा, हमें अपने मिशन को आगे बढ़ाने के लिए स्वयंसेवकों की आवश्यकता है।

नरेंद्र कुमार

राष्ट्रीय अध्यक्ष

हमारे बारे में

राष्ट्रीय गौ सेवक संघ भारत के विभिन्न हिस्सों में गौसेवकों और गौरक्षकों का एक संघ है। इसका गठन जनता के बीच गाय की सुरक्षा और देखभाल का संदेश फैलाने और डेयरी खेती को टिकाऊ बनाने के लिए डेयरी उत्पादों की बिक्री को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से किया गया है। गायों के लिए इस संगठन का लक्ष्य गौशालाओं में क्रांति लाना और अधिक से अधिक संख्या में गौमाताओं के लिए चारे, स्वास्थ्य और आवासीय सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करना है।

हमारी टीम के सदस्यों में ऐसे लोग शामिल हैं जिन्होंने अपना पूरा जीवन गौमाताओं के कल्याण के लिए समर्पित कर दिया है और हर तरह से उनकी सेवा करते हैं। हमारी टीम में शामिल हों, और गौमाता के जीवन के उत्थान के लिए काम करें।

About Us

राष्ट्रीय गौसेवक संघ के मूल विश्वास

भारत में बहुत लंबे समय से गायों का सम्मान करने की परंपरा रही है। गायें भारतीय समाज का अभिन्न अंग रही हैं। गाँव हो या शहर, झोपड़ियों और घरों के बाहर गायें और बच्चों के साथ खेलते हुए छोटे-छोटे बछड़े दिख जाते हैं। भारतीय गायों को केवल जानवर ही नहीं मानते बल्कि उन्हें अपने परिवार का अभिन्न अंग मानते हैं।

अधिक पढ़ें
राष्ट्रीय गौसेवक संघ के मूल विश्वास
अनुदान संचय

अनुदान संचय

दूध हमारे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। दूध से हमें जो पोषक तत्व प्राप्त होते हैं, उन्हें किसी भी अन्य चीज़ से प्रतिस्थापित नहीं किया जा सकता है। 139 करोड़ की आबादी के लिए दूध और दुग्ध उत्पाद पैदा करने के लिए अधिक संख्या में गायों की जरूरत है। गाय भारतीय संस्कृति की रीढ़ है।

अधिक पढ़ें

हमारा उद्देश्य

हमारा मिशन एक गौ ब्रह्मांड बनाना है जिसमें हम गौसेवकों और डेयरी किसानों की एक टीम बनाएंगे ताकि उन्हें आशा और सम्मान से भरे जीवन में गायों की सेवा करने में मदद मिल सके। हम एक ऐसा मंच बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं जिसमें शामिल हैं- गाय संरक्षण और गौशाला, डेयरी फार्मिंग,

अधिक पढ़ें
हमारा उद्देश्य
गौसेवक के रूप में जुड़ें

गौसेवक के रूप में जुड़ें

'गौसेवक' शब्द दो शब्दों 'गौ' और 'सेवक' का एक पवित्र संयोजन है। 'गौ' का अर्थ दिव्य गायों से है, जो सनातन संस्कृति में सबसे सम्मानित, प्रिय और पूजनीय जानवर है। 'सेवक' का अर्थ देखभाल करने वाला या सेवा करने वाले से है। गौसेवक से तात्पर्य ऐसे देखभालकर्ता या सेवक से है जो पूरी तरह से गौमाता की सेवा में लीन रहता है।

अधिक पढ़ें

गौरक्षक के रूप में शामिल हों

'गौरक्षक' शब्द सनातन संस्कृति की पुस्तकों में दो पवित्र शब्दों, यानी, गौ और 'रक्षक' का संयोजन है। गौ का अर्थ गाय माता है, जबकि रक्षक का अर्थ रक्षा करने वाला है। गौरक्षक वह व्यक्ति होता है जो गाय माता को पशु माफियाओं और बूचड़खानों से बचाने के लिए दृढ़ संकल्प और अत्यंत जुनून के साथ काम करता है।

अधिक पढ़ें
गौरक्षक के रूप में शामिल हों
गौशाला संचालक के रूप में शामिल हों

गौशाला संचालक के रूप में शामिल हों

एक गौशाला संचालक गौशाला के दैनिक प्रबंधन के लिए जिम्मेदार होता है। उन्हें गौशाला का कार्यात्मक प्रमुख माना जाता है। यह संचालक गौ माता की भलाई और देखभाल के लिए योजनाएं बनाता है एवं प्रबंधन करता है।

अधिक पढ़ें

india-map

RGSS Member - 2,27,507

Uttar Pradesh

0

Uttar Pradesh

Maharashtra

0

Maharashtra

Rajasthan

0

Rajasthan

Madhya Pradesh

0

Madhya Pradesh

Bihar

0

Bihar

Jharkhand

0

Jharkhand

Chhattisgarh

0

Chhattisgarh

Uttarakhand

0

Uttarakhand

गौसेवक कौन है?

गौसेवक वह व्यक्ति होता है जो दिल से गौमाता की देखभाल करता है और उनके कल्याण के लिए अत्यंत समर्पण के साथ काम करता है। वैदिक ग्रंथों के अनुसार, यह माना जाता है कि जिन लोगों को अपने जीवन में गौसेवक बनने का मौका मिलता है, वे भाग्यशाली होते हैं। गौमाता की सेवा गौसेवक का परम दायित्व है।

गौसेवक गाय माता की भावनात्मक और स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों को पूरा करके उनके जीवन को बेहतर बनाने के प्रति उत्साहित होता है। वे अपनी जड़ों से जुड़े हुए हैं; इस प्रकार, सेवा करने की गहरी इच्छा अंदर से आती है।

Who is a Gausevak?

राष्ट्रीय गौ सेवक संघ के उद्देश्य

डेयरी फार्म और गौशाला स्थापित करने में आम लोगों की सहायता करना।

प्रौद्योगिकी का अधिकतम लाभ उठाने में डेयरी किसानों की मदद करना।

गौमाता के उत्थान के लिए काम करने के लिए युवाओं को प्रोत्साहित करना।

भारत के विभिन्न हिस्सों में गाय प्रजनन और संरक्षण कार्यक्रम शुरू करना।

गौ-अपराधियों के लिए कड़ी सजा का प्रावधान करना।

गौमाता के समुचित इलाज के लिए अस्पताल की सुविधा प्रदान करना।

लोकप्रिय भारतीय सांडों का एक नेटवर्क बनाना।

गौपालन पर विशेष ध्यान देकर रोजगार के अवसरों के द्वार खोलना।

भारतीय नस्ल की गायों से प्राप्त उत्पादों की बिक्री के लिए एक मंच देना।

हमारी गौशालाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रशिक्षण शिविरों का आयोजन करना।

गाय की देखभाल का महत्व

गौमाता प्रेम, प्रशंसा और देखभाल की पात्र हैं। हम गौ माता के जीवन को उन्नत करने के इच्छुक गौ प्रेमियों का एक नेटवर्क बना रहे हैं। इसके अलावा, हम डेयरी किसानों के लिए डेयरी फार्मिंग व्यवसाय को टिकाऊ बनाने का प्रयास करते हैं। साथ ही, हम अपनी टीम को आपदाओं और अन्य चुनौतियों के दौरान एक स्तंभ के रूप में खड़े रहने के लिए तैयार कर रहे हैं।

Importance of Cow Care
Cow Welfare

गौ कल्याण

हमारे सनातन धर्म में गाय को माता के समान माना जाता है। उनकी सुरक्षा, देखभाल और उनकी भलाई सुनिश्चित करना हमारी जिम्मेदारी है।

Rural Livelihoods

ग्रामीण आजीविका

बहुत से लोग अपनी आजीविका के लिए डेयरी फार्मिंग पर निर्भर हैं। गाय की उचित देखभाल से गायों की जीवन प्रत्याशा में वृद्धि सुनिश्चित होती है और ग्रामीण आर्थिक विकास में योगदान मिलता है।

Preserving Cow Breeds

गाय की नस्ल का संरक्षण

भारतीय नस्ल की नस्लों को संरक्षित करना महत्वपूर्ण है। गिर, साहीवाल जैसी भारतीय गाय की नस्लों की देखभाल करें।

Biodiversity Preservation

जैव विविधता संरक्षण

गाय के कल्याण के इर्द-गिर्द एक चरागाह प्रणाली सभी के लिए फायदेमंद संतुलित पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाकर जैव विविधता को बढ़ा सकती है।

Sustainable Agriculture

स्थायी कृषि

गाय की उचित देखभाल सिंथेटिक उर्वरक की जरूरतों को कम करके मिट्टी की उर्वरता बनाए रखती है, जिससे टिकाऊ कृषि पद्धतियों में योगदान मिलता है।

Education and Awareness

शिक्षा और जागरूकता

गाय के देखभाल से जुड़े गतिविधियों को बढ़ावा देकर उपभोक्ताओं को भारतीय गायों से प्राप्त डेयरी उत्पादों के मूल्य के बारे में शिक्षित किया जाएगा और उन्हें बेहतर विकल्प चुनने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

Gausevaks
0

गौसेवक जुड़ें हैं

Mother Cows
0

गौमाता की सेवा

Leaders all
0

मार्गदर्शकों का समूह